- my webspace

- my webspace

Latest Comment

Why I must believe in GOD
Testing time is almost passed..there are many colours in lif...
27/06/12 01:43 More...
By Tarun Shekhawat

Allama Iqbal - Selective verse...
Yahoouj
Really good work about this website was done. Keep trying mo...
07/03/10 15:04 More...
By Roderick

Allama Iqbal - Selective verse...
Great Job
You have dont a great job of collecting these... Even I had ...
25/08/09 01:01 More...
By Sikandar

O ye who don't believe !
It's like Lehman Brothers :grin
11/10/08 10:31 More...
By anurag Chaturvedi

I Protest
@Sikku
Thanks Sikku for the feedback. I never intend to blame, a...
29/07/08 11:06 More...
By Aminur Rashid

Login






Lost Password?
Home arrow Blog arrow Main hoon unke saath khadi jo seedhi rakhte apni reedh
Main hoon unke saath khadi jo seedhi rakhte apni reedh PDF Print E-mail
User Rating: / 3
PoorBest 
Written by Aminur Rashid   
Monday, 14 April 2014


मैं हूँ उनके साथ,खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

कभी नही जो तज सकते हैं, अपना न्यायोचित अधिकार
कभी नही जो सह सकते हैं, शीश नवाकर अत्याचार
एक अकेले हों, या उनके साथ खड़ी हो भारी भीड़
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

निर्भय होकर घोषित करते, जो अपने उदगार विचार
जिनकी जिह्वा पर होता है, उनके अंतर का अंगार
नहीं जिन्हें, चुप कर सकती है, आतताइयों की शमशीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

नहीं झुका करते जो दुनिया से करने को समझौता
ऊँचे से ऊँचे सपनो को देते रहते जो न्योता
दूर देखती जिनकी पैनी आँख, भविष्यत का तम चीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जो अपने कन्धों से पर्वत से बढ़ टक्कर लेते हैं
पथ की बाधाओं को जिनके पाँव चुनौती देते हैं
जिनको बाँध नही सकती है लोहे की बेड़ी जंजीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जो चलते हैं अपने छप्पर के ऊपर लूका धर कर
हर जीत का सौदा करते जो प्राणों की बाजी पर
कूद उदधि में नही पलट कर जो फिर ताका करते तीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जिनको यह अवकाश नही है, देखें कब तारे अनुकूल
जिनको यह परवाह नहीं है कब तक भद्रा, कब दिक्शूल
जिनके हाथों की चाबुक से चलती हें उनकी तकदीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

तुम हो कौन, कहो जो मुझसे सही ग़लत पथ लो तो जान
सोच सोच कर, पूछ पूछ कर बोलो, कब चलता तूफ़ान
सत्पथ वह है, जिसपर अपनी छाती ताने जाते वीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़



-श्री हरिवंशराय बच्चन जी


StumbleUponDigg This!Bookmark on Delicious

Add as favourites (344) | Quote this article on your site | Views: 4179 | E-mail

Be first to comment this article
RSS comments

Only registered users can write comments.
Please login or register.

Last Updated ( Monday, 14 April 2014 )
 
< Prev   Next >
Aminur Rashid